ऊपर
महारानी माधवी राजे सिंधिया का 70 वर्ष की आयु में निधन, राजनीतिक गलियारों में शोक की लहर
मई 15, 2024
के द्वारा प्रकाशित किया गया मधुर गावडे

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की माता और ग्वालियर की राजमाता महारानी माधवी राजे सिंधिया का सोमवार को दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में निधन हो गया। वह 70 वर्ष की थीं। उनके असामयिक निधन से राजनीतिक गलियारों में शोक की लहर है।

राजस्थान के मुख्यमंत्री भाजन लाल शर्मा ने महारानी माधवी राजे के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है। उन्होंने सोशल मीडिया पर श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि उनके निधन की खबर अत्यंत दुखद है और वह ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि दिवंगत आत्मा को शांति मिले।

इसके अलावा, उप मुख्यमंत्री दीया कुमारी और कैबिनेट मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने भी शोक व्यक्त करते हुए शोक संतप्त परिवार को संबल देने की बात कही है।

नेपाल के राजपरिवार से थीं माधवी राजे का नाता

महारानी माधवी राजे का जन्म नेपाल के राजघराने में हुआ था। उनके दादा नेपाल के 15वें प्रधानमंत्री रह चुके थे। शादी के बाद उनका नाम परंपरा के अनुसार माधवी राजे सिंधिया रखा गया था।

माधवी राजे की शादी तत्कालीन महाराज माधव सिंधिया के साथ हुई थी। कुछ समय बाद उन्हें ग्वालियर की राजमाता घोषित कर दिया गया। राजपरिवार से जुड़ी होने के कारण वह न सिर्फ राजनीति से जुड़ी रहीं बल्कि समाज सेवा के कार्यों में भी सक्रिय रहीं।

पारिवारिक पृष्ठभूमि

महारानी माधवी राजे सिंधिया के पति महाराज माधव सिंधिया भारतीय राजनीति के दिग्गज नेता थे। उन्होंने कई वर्षों तक सांसद और केंद्रीय मंत्री के रूप में भी कार्य किया। लेकिन अचानक 2001 में विमान दुर्घटना में उनका निधन हो गया।

इसके बाद उनके बेटे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने राजनीति में प्रवेश किया और वर्तमान में केंद्रीय मंत्री हैं। महारानी माधवी राजे सिंधिया के निधन के बाद सिंधिया परिवार की परंपरा का एक युग समाप्त हो गया है।

शोक व्यक्त करने वालों में बड़े नेता शामिल

महारानी माधवी राजे सिंधिया के निधन पर शोक व्यक्त करने वालों में देश के कई बड़े नेता शामिल हैं। इनमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह सहित कई अन्य दिग्गज नेता शामिल हैं।

इसके अलावा, ग्वालियर और उसके आसपास के क्षेत्रों में भी लोगों ने उनके निधन पर शोक जताया है। माधवी राजे लोगों की सेवा और उनके कल्याण के लिए हमेशा तत्पर रहती थीं। उनके असामयिक निधन से सिंधिया परिवार और ग्वालियर की जनता को गहरा आघात लगा है।

राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि महारानी माधवी राजे सिंधिया का निधन न केवल सिंधिया परिवार बल्कि पूरे देश के लिए एक बड़ी क्षति है। उनके योगदान और समाज सेवा को हमेशा याद किया जाएगा।

मधुर गावडे

लेखक :मधुर गावडे

मैं पत्रकार हूं और मैं मुख्यतः दैनिक समाचारों का लेखन करता हूं। अपने पाठकों के लिए सबसे ताज़ा और प्रासंगिक खबरें प्रदान करना मेरा मुख्य उद्देश्य है। मैं राष्ट्रीय घटनाओं, राजनीतिक विकासों और सामाजिक मुद्दों पर विशेष रूप से ध्यान देता हूं।

एक टिप्पणी लिखें

नवीनतम पोस्ट
25मई

के द्वारा प्रकाशित किया गया मधुर गावडे

8जून

के द्वारा प्रकाशित किया गया मधुर गावडे

20मई

के द्वारा प्रकाशित किया गया मधुर गावडे

16मई

के द्वारा प्रकाशित किया गया मधुर गावडे

29मई

के द्वारा प्रकाशित किया गया मधुर गावडे

हमारे बारे में

समाचार प्रारंभ एक डिजिटल मंच है जो भारतीय समाचारों पर केन्द्रित है। इस प्लेटफॉर्म पर दैनिक आधार पर ताजा खबरें, राष्ट्रीय आयोजन, और विश्लेषणात्मक समीक्षाएँ प्रदान की जाती हैं। हमारे संवाददाता भारत के कोने-कोने से सच्ची और निष्पक्ष खबरें लाते हैं। समाचार प्रारंभ आपको राजनीति, आर्थिक घटनाएँ, खेल और मनोरंजन से जुड़ी हुई नवीनतम जानकारी प्रदान करता है। हम तत्काल और सटीक जानकारी के लिए समर्पित हैं, ताकि आपको हमेशा अपडेट रखा जा सके।