ऊपर
अरविंद केजरीवाल केस: सुप्रीम कोर्ट और सीबीआई कोर्ट से ताजा अपडेट
जून 26, 2024
के द्वारा प्रकाशित किया गया मधुर गावडे

परिचय

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को शराब नीति मामले में सीबीआई द्वारा दिल्ली के राउज एवेन्यू कोर्ट में पेश किया गया। इसे लेकर सुप्रीम कोर्ट और सीबीआई कोर्ट में कई महत्वपूर्ण घटनाएं हुईं, जिन्होंने राजनीतिक और कानूनी विमर्श को गर्मा दिया है। इस मामले में मुख्य रूप से जमानत को लेकर विवाद चल रहा है।

घटना का प्रारम्भ और अदालत की कार्यवाही

घटना का प्रारम्भ और अदालत की कार्यवाही

शराब नीति मामले में अरविंद केजरीवाल को पहले ट्रायल कोर्ट ने जमानत दे दी थी, लेकिन इसके बाद दिल्ली हाई कोर्ट ने उनकी जमानत को स्थगित कर दिया था। इस पर केजरीवाल ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है। सुप्रीम कोर्ट में यह सुनवाई जस्टिस मनोज मिश्रा और एसवीएन भट्टी की पीठ के सामने हुई, जिसमें केजरीवाल की जमानत के मामले पर चर्चा की गई।

राउज एवेन्यू कोर्ट की सुनवाई

राउज एवेन्यू कोर्ट में वकेशन जज अमिताभ रावत ने इस मामले की सुनवाई की। केजरीवाल के वकील, चौधरी ने इस दौरान गिरफ्तार करने के समय पर सवाल उठाए और प्रमाणों की विश्वसनीयता पर सवालिया निशान लगाया। उनका तर्क था कि केजरीवाल को पहले क्यों नहीं गिरफ्तार किया गया, जबकि उस समय भी प्रमाण मौजूद थे। उन्होंने इसके साथ ही इस बात पर भी जोर दिया कि मामला राजनैतिक प्रतिशोध के तहत हो रहा है।

नई राजनैतिक समर्थन की चर्चा

केजरीवाल के वकील चौधरी ने यह भी दावा किया कि मामला तब उजागर हुआ जब मुकुंदा रेड्डी, जिन्होंने मार्च में अप्रूवर का दर्जा लिया था, 29 फरवरी को मौजूदा सत्ताधारी पार्टी में शामिल हो गए। वकील ने इस बात को उठाया कि रेड्डी के पापों को वर्तमान पार्टी में शामिल होने से धो दिया गया। इससे यह संकेत मिलता है कि मामले में कहीं न कहीं राजनैतिक उद्देश्य भी है।

सुप्रीम कोर्ट की चर्चा

सुप्रीम कोर्ट की चर्चा

सुप्रीम कोर्ट में भी इसी मामले पर सुनवाई जारी रही जहाँ केजरीवाल के वकील ने अपनी दलीलें रखीं और गिरफ्तारी की वैधता पर सवाल उठाए। जस्टिस मनोज मिश्रा और एसवीएन भट्टी ने दोनों पक्षों के तर्क सुने और मामले को ध्यानपूर्वक जांचने का वादा किया। यह मामला अब कानूनी और राजनैतिक के बीच का संघर्ष बन गया है, जहाँ अदालत को यह तय करना है कि गिरफ्तारी और जमानत के मामले में कानूनी प्रक्रिया का सही प्रकार से पालन हुआ है या नहीं।

निष्कर्ष

निष्कर्ष

कुल मिलाकर, अरविंद केजरीवाल का शराब नीति का मामला एक जटिल और विवादास्पद मुद्दा बन गया है, जिसमें कानूनी प्रक्रियाओं और राजनैतिक समीकरणों का मिलन हो रहा है। अदालत का अंतिम निर्णय इस बात पर निर्भर करेगा कि सभी दलीलें और प्रमाण कितने सही और प्रामाणिक हैं। इस मामले के आगामी घटनाक्रम पर सभी की निगाहें टिकी हुई हैं।

मधुर गावडे

लेखक :मधुर गावडे

मैं पत्रकार हूं और मैं मुख्यतः दैनिक समाचारों का लेखन करता हूं। अपने पाठकों के लिए सबसे ताज़ा और प्रासंगिक खबरें प्रदान करना मेरा मुख्य उद्देश्य है। मैं राष्ट्रीय घटनाओं, राजनीतिक विकासों और सामाजिक मुद्दों पर विशेष रूप से ध्यान देता हूं।

एक टिप्पणी लिखें

नवीनतम पोस्ट
18जून

के द्वारा प्रकाशित किया गया मधुर गावडे

11मई

के द्वारा प्रकाशित किया गया मधुर गावडे

22मई

के द्वारा प्रकाशित किया गया मधुर गावडे

15जून

के द्वारा प्रकाशित किया गया मधुर गावडे

30मई

के द्वारा प्रकाशित किया गया मधुर गावडे

हमारे बारे में

समाचार प्रारंभ एक डिजिटल मंच है जो भारतीय समाचारों पर केन्द्रित है। इस प्लेटफॉर्म पर दैनिक आधार पर ताजा खबरें, राष्ट्रीय आयोजन, और विश्लेषणात्मक समीक्षाएँ प्रदान की जाती हैं। हमारे संवाददाता भारत के कोने-कोने से सच्ची और निष्पक्ष खबरें लाते हैं। समाचार प्रारंभ आपको राजनीति, आर्थिक घटनाएँ, खेल और मनोरंजन से जुड़ी हुई नवीनतम जानकारी प्रदान करता है। हम तत्काल और सटीक जानकारी के लिए समर्पित हैं, ताकि आपको हमेशा अपडेट रखा जा सके।